वास्तु उपाय: घर में लगातार चली आ रही परेशानियां होंगी दूर

0
63

वास्तु शास्त्र तोड़-फोड़ का शास्त्र नहीं है। पूर्व निर्मित प्रवेश द्वार को वास्तु समस्त बनाने के लिए या उससे जुड़े नकारात्मक प्रभावों को कम करने के लिए वास्तु में अनेक उपायों की व्यवस्था भी है। वास्तु यंत्र, रत्न…वैदिक वास्तु पूजा द्वारा भी इन दोषों से मुक्ति प्राप्त की जा सकती है।

 

* पश्चिम दिशा में द्वार दोष उत्पन्न होने पर रविवार को सूर्योदय से पूर्व दरवाजे के सम्मुख नारियल के साथ कुछ सिक्के रख कर दबा दें। सूर्य के मंत्र से हवन करें। द्वार दोष दूर होगा।

 

* पूर्व दिशा में घर का दरवाजा जातक को ऋणी बना देता है तो सोमवार को रुद्राक्ष घर के दरवाजे के मध्य लटका दें और पहले सोमवार को हवन करें। रुद्राक्ष व शिव की आराधना करने से आपके समस्त कार्य सफल होंगे।

 

* दक्षिण दिशा में घर का प्रमुख द्वार शुभ नहीं है। इसके कारण आप घर में लगातार परेशानियों का सामना कर रहे हैं, तो बुधवार या वीरवार को नींबू या सात कौडिय़ां धागे में बांधकर लटका देनी चाहिएं।

 

* वास्तु के अनुसार उत्तर का दरवाजा हमेशा लाभकारी होता है। यदि द्वार दोष उत्पन्न होता है तो भगवान विष्णु की आराधना करें। पीले फूल की माला दरवाजे पर लगाएं।