सीएम योगी आदित्यनाथ का तोहफा प्यासे बुंदेलखंड को पानी की किल्लत के लिए दिए 47 करोड़ रुपये

0
298
latest news in hindi

पीने के पानी की किल्लत से जूझ रहे बुंदेलखंड को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फौरी राहत देने का एेलान किया है। इलाके में पानी की कमी को दूर करने के लिए सीएम ने तुरंत 47 करोड़ रुपये की राशि देने को कहा है। उन्होंने कहा है कि किसी भी हाल में बुंदेलखंड की जनता और पशुधन को पेयजल की दिक्कत नहीं होनी चाहिए। सीएम इसी महीने बुंदेलखंड का दौरा भी करेंगे।

सीएम आदित्यनाथ ने कहा कि पिछले 15 वर्षों के दौरान बुंदेलखंड के संपूर्ण विकास के लिए प्रभावी कार्यवाही नहीं हुई और इस इलाके की लगातार अनदेखी की गई। सीएम ने अधिकारियों से फिर कहा कि बुंदेलखंड की सभी सिंचाई और पेयजल परियोजनाओं के लिए मुहैया कराई गई धनराशि का पूरा-पूरा इस्तेमाल किया जाए। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को प्रदेश के पूर्वांचल सहित अन्य बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में संभावित बाढ़ के दृष्टिगत कार्य योजना तैयार करने के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने पूरी गुणवत्ता के साथ तटबंधों की समय से मरम्मत कराने को कहा।

सीएम ने कहा कि संवेदनशील बाढ़ग्रस्त इलाकों में बाढ़ नियंत्रण पर विशेष ध्यान दिया जाए। बाढ़ की स्थिति उत्पन्न होने की दशा में उन्होंने स्थानीय स्तर पर राजस्व, सिंचाई, पुलिस, स्वास्थ्य, खाद्य एवं रसद, पशुपालन आदि विभागों के बीच बेहतर तालमेल पर जोर दिया जाए बता दें कि बीजेपी के घोषणापत्र में बुंदेलखंड के लिए पानी की किल्लत को दूर करने का वादा किया गया था। योगी आदित्यनाथ इस समय एेक्शन मोड में हैं और वह कल यानी 4 अप्रैल को यूपी कैबिनेट की पहली बैठक करेंगे, जिसमें किसानों की कर्ज माफी का फैसला लिया जा सकता है।

आपको बता दें कि योगी आदित्यनाथ ने यूपी लोकसेवा आयोग (UPPSC) के अध्यक्ष अनिरुद्ध सिंह यादव को भी तलब किया है। एग्जाम में किसी खास जाति (यादवों) को विशेष तहजीह मिलने की शिकायतें मिलने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने यह कदम उठाया है। अनुज यादव से पूछा जाएगा कि क्या वाकई इतनी प्रतिष्ठित परीक्षा में एेसा किया गया। इलाहाबाद में जब बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक हुई थी, तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगे कई समुदायों के प्रतिनधियों ने यह बात उठाई थी।